March 5, 2021

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : दण्डी सन्यासी होते हुये किसान हित में संघर्ष को ही भगवान की अराधना मानते थे स्वामी सहजानन्द : जय कृष्ण दास

वाराणसी : स्वामी सहजानन्द सरस्वती की 131वीं जयंती के अवसर में स्वामी सहजानन्द शोध संस्थान द्वारा आयोजित दो दिवसीय जयन्ती समारोह एवं किसान मंथन शिविर का प्रबोधिनी भवन मानिकनगर लहरतारा में आज समापन हुआ। स्वामी सहजानन्द सरस्वतीजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पाजलि अर्पित करने के पश्चात किसान मंथन शिविर के मुख्य अतिथि यमुना रक्षक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय कृष्ण दास ने कहा कि किसान अन्दोलन के जनक स्वामी सहजानन्द सरस्वती जी दण्डी सन्यासी होते हुये किसान को धरती का साक्षात भगवान मानकर किसान हितों हेतु सृजनात्मक एवं संघर्षनात्मक कार्य को ही भगवान की अराधना मानकर आजीवन किसान हितो हेतू संघर्ष करते रहे।

जय कृष्ण दास ने कहा कि आजादी के अन्दोलन में किसानों एवं मजदूरो को जोड़कर अंग्रेजी हुकूमत की जड़े उखाड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किये। स्वामी जय कृष्ण दास ने कहा कि किसानों को किसान संगठनों एवं राजनीतिक पार्टियां ने छलने का कार्य किया है, किसानों की संख्या जुटाकर किसान संगठन सरकारों से व्यक्तिगत लाभ हेतु सौदा किये और राजनीतिक पार्टियां किसानों को जाति धर्म में बाटकर राजनीति रोटियां सेककर किसानों को भटकाने का कार्य किया जिससे किसान आजादी के सत्तर साल बाद भी अपने अधिकारों के लिए दर दर ठोकरे खा रहा है।

इसकी अध्यक्षता करते हुए किसान नेता विनय शंकर राय “मुन्ना” ने कहा कि स्वामी सहजानन्द सरस्वती जी प्रकाण्ड विद्वान थे वे वेद, उपनिषद, रामायण, महाभारत, कुरान, बाइबिल इत्यादि ग्रन्थों का गहराई से अध्ययन-अध्यापन एवं मनन करते हुये प्रकाण्ड विद्वता हासिल किये, तीर्थों धार्मिक स्थलों का पैदल भ्रमण करते हुये मन्दिरों, गुफाओं एवं कन्दराओ में तपस्या करते हुये भगवान को खोजते रहे लेकिन भगवान किसान के रूप में मिला, वे बेबाक लेखक, समाजसुधारक एवं महान अन्दोलनकारी थे।

किसान मंथन शिविर की अध्यक्षता किसान नेता विनय शंकर राय “मुन्ना” संचालन विवेक यादव एवं धन्यवाद ग्यापन मोहम्मद अकरम ने किया, प्रमुख रूप से वीरेन्द्र यादव, गगन प्रकाश यादव, योगी राज पटेल, हरीश मिश्रा, डा. बृजेश पाण्डेय, मेवा पटेल, प्रेम साह, विजय गुप्ता, कन्हैया मिश्रा, अपूर्व राय, शैलेन्द्र राय, बेचू यादव, सन्तोष कन्नौजिया,बद्री यादव, भागवत सिंह सहित इत्यादि लोग शामिल थे।

You may have missed