December 5, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : BHU प्रवेश परीक्षा के आवेदन की अंतिम तिथि बढ़ी, इतने तारीख तक कर सकेंगे आवेदन…

वाराणसी : काशी हिंदू विश्वविद्यालय(BHU) के विभिन्न स्नातक (25) और (131) पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया की अंतिम तिथि 29 फरवरी से बढ़ाकर 12 मार्च 2020 तक कर दी गई है। विश्वविद्यालय ने यह निर्णय विभिन्न इंटरमीडिएट परीक्षा की परीक्षाओँ को ध्यान में रखते हुए लिया है।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय(बीएचयू) के प्रवेश परीक्षा की अंतिम तिथि आज 29 फरवरी तय की गयी थी, लेकिन कई छात्रों के इंटरमीडिएट की परीक्षा अभी तक खत्म नहीं हुई है, जिसके कारण कई छात्र बीएचयू प्रवेश परीक्षा का आवेदन नहीं कर पाए थे। इसी को ध्यान में लेकर प्रवेश परीक्षा की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 12 मार्च तक कर दिया है। कम्प्यूटर बेस एग्जाम के डर से कई छात्रों ने अभी तक बीएचयू का प्रवेश पत्र नहीं भरा था उन छात्रों के लिए भी यह मौका है फार्म भरने का क्योंकि विश्वविद्यालय ने तय किया है कि वाराणसी में प्रवेश परीक्षा सीबीटी मोड से नहीं होगी।

एक शहर से दूसरे शहर की लंबी यात्रा नही करनी पड़ेगी

आवेदकों को एक शहर से दूसरे शहर की लम्बी यात्रा न करनी पड़े, इसके लिए विश्वविद्यालय ने पूर्वोक्त कोटा नीति के अनुरूप उपरोक्त स्नातक पाठ्यक्रमों की प्रवेश परीक्षा उसी तिथि और समय पर समान प्रश्नपत्र के माध्यम से वाराणसी केंद्र पर पेन और पेपर मोड (OMR आधारित) में भी आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। अन्य सभी परीक्षा केंद्रों (शहरों) में, निर्धारित पाली में आवेदकों की संख्या CBT आयोजित करने की उनकी उपलब्ध अवसंरचनात्मक क्षमता के भीतर है। इसलिए, वाराणसी को छोड़कर अन्य शहरों में स्थित केंद्रों पर प्रवेश परीक्षा सीबीटी मोड में ही आयोजित की जाएगी।

ऐसे अभ्यर्थी जो आत्मविश्वास की कमी के कारण सीबीटी मोड का चयन कर पूर्वोक्त स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आवेदन पत्र नहीं भर सके, लेकिन अभी भी ऑफ़लाइन परीक्षा मोड (केवल पूर्वोक्त पाठ्यक्रमों के लिए) में सम्मिलित होने के इच्छुक हैं वे वाराणसी: सबसे पसंदीदा परीक्षा केंद्र के रूप में चयनकर परीक्षा की अवधि तक प्रवेश परीक्षा पत्र भर सकते हैं।

“यदि सीबीटी के लिए किसी शहर में स्थित परीक्षा केंद्र के लिए आवेदन करने वाले आवेदकों की संख्या संबंधित शहर में सीबीटी आयोजित करने के लिए उपलब्ध अवसंरचनात्मक क्षमता से अधिक होगी, तो किसी वैकल्पिक शहर का आवंटन आवेदक द्वारा इंगित रेटिंग के क्रम में किया जाएगा। यदि आवेदकों का समायोजन प्राथमिकता वाले वैकल्पिक शहरों में भी संभव नहीं होगा, तो विश्वविद्यालय को ऐसे आवेदकों की परीक्षा सीबीटी मोड से पेन और पेपर मोड (ओएमआर आधारित) में संशोधित करने का अधिकार होगा ताकि आवेदकों को एक शहर से दूसरे शहर की एलबीबी यात्रा न। होना चाहिए। इस स्थिति में, प्रवेश परीक्षा दोनों मोड में एक ही तिथि, एक ही समय और एक ही प्रश्न पत्र के माध्यम से आयोजित की जाएगी। “