December 5, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : अमेरिकी जर्नल ने भी माना, गंगाजल के नियमित प्रयोग करने से 90 फीसदी लोग Covid-19 से सुरक्षित

वाराणसी : काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) आईएमएस की टीम ने गंगा किनारे रहने वालों पर कोरोना के प्रभाव पर शोध किया है। टीम ने जो शोध प्रस्तुत किया है उसमें कहा गया है कि गंगाजल का नियमित प्रयोग करने वालों पर कोरोना संक्रमण का प्रभाव 10 फीसदी है। शोध पत्र को अमेरिका के इंटरनेशनल जर्नल ऑफ माइक्रोबायोलॉजी के अंक में प्रकाशित किया गया है। बीएचयू न्यूरोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. रामेश्वर चौरसिया, न्यूरोलॉजिस्ट प्रो. वीएन मिश्रा की अगुवाई में टीम ने प्रारंभिक सर्वे में पाया था कि नियमित गंगा स्नान और गंगाजल का किसी न किसी रूप में सेवन करने वालों पर 90 फीसदी लोगों पर कोरोना संक्रमण का असर नहीं है।

शोध करने वाली टीम ने दावा किया है कि गंगा स्नान करने वाले 90 फीसदी लोग कोरोना संक्रमण से बचे हुए है। इसी तरह गंगा किनारे के 42 जिलों में कोरोना का संक्रमण बाकी शहरों की तुलना में 50 फीसदी से कम और संक्रमण के बाद जल्दी ठीक होने वालों की संख्या ज्यादा है। बैक्टीरियोफेज की रिसर्च टीम में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टॉक्सिकोलॉजी रिसर्च आईआईटीआर लखनऊ के विज्ञानी डॉ. रजनीश चतुर्वेदी, बीएचयू के डॉ. अभिषेक, डॉ. वरुण सिंह, डॉ. आनंद कुमार व रिसर्च स्कॉलर निधि तथा इलाहाबाद हाईकोर्ट के एमिकस क्यूरी एडवोकेट अरुण गुप्ता हैं।

वही गंगाजल पर रिसर्च कर रही बायरोफेज टीम के लीडर प्रो. विजय नाथ मिश्र बताया कि स्टडी के साथ ही गोमुख से लेकर गंगासागर तक सौ स्थानों पर सैंपलिंग की गई थी। कोरोना मरीजों की फेज थेरेपी के लिए गंगाजल का नेजल से भी तैयार करा लिया गया है। इसकी डिटेल रिपोर्ट आईएमएस की एथिकल कमिटी को भेज दी गई है। प्रो. वी. भट्टाचार्या के चेयरमैनशिप वाली 12 सदस्यीय एथिकल कमेटी की सहमति मिलते ही ह्यूमन ट्रायल भी शुरू हो जाएगा।

प्रो. मिश्र ने बताया कि एथिकल कमेटी से सहमति के बाद 250 लोगों पर ट्रायल किया जाएगा। चयनित लोगों की नाक में गंगनानी से लाया गया गंगाजल और बाकी को प्लेन डिस्टिल वॉटर दिया जाएगा। इसके बाद परिणाम का अध्ययन कर रिपोर्ट इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च आईसीएमआर को भेजी जाएगी।

बीएचयू की टीम ने रविवार को पंचगंगा घाट पर 49 लोगों की कोरोना जांच किया। जिनमें 48 लोग निगेटिव और एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया। वही सोमवार को नगवा के गंगोत्री विहार कॉलोनी, अस्सी घाट गंगा किनारे पर कुल 69 लोगों की कोरोना जांच की गई। गंगा किनारे रहने वालों में 67 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई। जिसमें दो कोरोना संक्रमित पाए गए। इससे पहले टीम ने बुधवार को तुलसीघाट, भदैनी, चेतसिंह घाट, हरिश्चंद्र घाट पर 54 लोगों की सैंपलिंग की थी और सभी की रिपोर्ट निगेटिव मिली थी।

You may have missed