November 26, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : एक बार फिर से श्रद्धालु बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर में कर पाएंगे दर्शन, कल से खुलेंगे कपाट, बिना मास्क के नही होगा मंदिर में प्रवेश

वाराणसी : केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा जारी गाइडलाइंस के बाद अब वाराणसी में भी मंदिर खोलने की तैयारियां जोरों पर है। वही सोमवार को बाबा काशी विश्वनाथ के भक्तों के लिए एक राहत भरी खबर आई है कि 9 जून यानी मंगलवार से अब श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन कर पाएंगे। यह जानकारी मंदिर के मुख्य कार्यपालक विशाल सिंह के तरफ से दी गई है।

काशीपुराधिपति बाबा विश्वनाथ का दर्शन पूजन मंगलवार से शुरू हो जाएगा। मंगला आरती के पश्चात मंदिर में आम श्रद्धालुओं के प्रवेश की शुरुआत होगी। धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए भारत सरकार और प्रदेश सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा।

बिना के मंदिर नही होगा मंदिर में प्रवेश

इस संदर्भ में श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक विशाल सिंह ने बताया कि मंदिर में किसी भी श्रद्धालु को बिना मास्क के प्रवेश नहीं दिया जाएगा। श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश से पहले दो बार हाथों को सैनिटाइज करना आवश्यक होगा। एक बार में मंदिर परिसर में 5 श्रद्धालु ही उपस्थित होंगे। किसी भी विग्रह प्रतिमा या घंटी को छूना प्रतिबंधित रहेगा। श्रद्धालु गेट नंबर 4 के पांचो पांडव प्रवेश द्वार से प्रवेश करते हुए बद्रीनाथ प्रवेश द्वार से मंदिर तक जाएंगे।

मंदिर में प्रवेश से पहले श्रद्धालुओं की होगी थर्मल स्कैनिंग

दर्शन करने के पश्चात हुए हनुमान द्वार से निकलकर नंदीहाल होते हुए वापस गेट नंबर 4 से बाहर जाएंगे। सभी श्रद्धालुओं को बाबा का झांकी दर्शन हो सकेगा। वही श्रद्धालुओं को प्रवेश से पहले थर्मल स्कैनिंग कराना अनिवार्य होगा। अगर शरीर का तापमान अधिक होने या सर्दी जुखाम की स्थिति में श्रद्धालु को मंदिर में प्रवेश पर प्रतिबंध रहेगा।

प्रवेश द्वारों पर लगाई गई ऑटोमेटिक सैनिटाइजर मशीन

इन सब व्यवस्थाओं के लिए मंदिर प्रशासन की तरफ से आने-जाने के अलग-अलग मार्ग, सोशल डिस्टेंसिंग के लिए पेंट से निशान बनाने के साथ ही प्रवेश द्वारों पर ऑटोमेटिक सेनीटाइजर मशीन लगाई गई है, ताकि श्रद्धालु अपने हाथों को अच्छी तरह से सैनिटाइज कर सकें। सभी आरती से पूर्व मंदिर परिसर को पूरी तरह से सेनेटाइज किया जाएगा। सभी श्रद्धालुओं को अपने जूते चप्पल को या तो अपने वाहन या फिर स्टैंड में स्वयं रखना होगा।