November 26, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : अब कोई भी संस्था या व्यक्ति नही बाट सकेगा राशन, खाद्यान बाटने को पहले से जारी पास को डीएम ने किया निरस्त

8 अप्रैल से कोई भी संस्था या व्यक्ति सीधे कोई भी राशन किट या भोजन पैकेट या कोई भी अन्य सामग्री किसी व्यक्ति को नही बांटेगा, न ही इसके लिए किसी मोहल्ले गली या सड़क पर जाएगा। वाराणसी में पहले से ही सामग्री या भोजन पैकेट उपलब्ध कराने वालों के लिए हैल्प लाइन नंबर जारी हैं।

राशन किट या भोजन पैकेट या अन्य सामग्री वितरण हेतु उपलब्ध कराए जाने के लिए लोग हेल्प लाइन नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं, फ़ूड सेल का वाहन स्वयं आ कर सामग्री प्राप्त कर लेगा। ऐसी संस्थाओं या व्यक्तियों को जो पास जारी हुए थे, वे कल से निरस्त समझे जाएंगे। केवल उनके माल वाहक वाहन के ही पास वैद्य माने जाएंगे।

वाराणसी : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण और उससे बचाव के लिए लॉकडाउन के दौरान जिलें में पिछले कई दिनों में राशन और भोजन बांटने वाले लोगों और संस्थाओं के द्वारा बहुत अधिक संख्या में कार्यकर्ताओं को इकट्ठा करके सामग्री बाटी जा रही है। इसी के साथ सामग्री प्राप्त करने वाले लोगों द्वारा बहुत अधिक भीड़ लगाकर छीना झपटी की जा रही है और इससे कानून व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है।।

इसी कड़ी में बुधवार को आज वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा मंथन किया गया और यह निष्कर्ष निकाला गया कि वर्तमान में शहर में सबसे आवश्यक लॉक डाउन है और उसके प्रावधानों का पालन सर्वोपरि है। इसी क्रम में यह निर्णय लिया गया कि बुधवार से कोई भी संस्था या व्यक्ति सीधे कोई भी राशन किट या भोजन पैकेट या कोई भी अन्य सामग्री किसी व्यक्ति को नही बांटेगा, न ही इसके लिए किसी मोहल्ले गली या सड़क पर जाएगा।

वाराणसी में पहले से ही सामग्री या भोजन पैकेट उपलब्ध कराने वालों के लिए हैल्प लाइन नंबर जारी है। वे लोग इस हेल्प लाइन नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं, फ़ूड सेल का वाहन स्वयं आ कर सामग्री प्राप्त कर लेगा। जहां फ़ूड सेल स्वयं कहेगी वहां संस्था भोजन के पैकेट सीधे बताये गए थाने पर दे सकेंगी। यह वितरण केंद्रीयकृत रूप से फूड् सेल द्वारा या थानों के द्वारा उन इलाकों में कराया जाएगा। जहा तक अभी सामग्री नही पहुंची या जिन लोगो के पास राशन कार्ड नहीं हैं।


इसी संबद्ध में जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने बताया कि ऐसी संस्थाओं या व्यक्तियों को जो पास जारी हुए थे, वे कल से निरस्त समझे जाएंगे। केवल उनके माल वाहक वाहन के ही पास वैद्य माने जाएंगे। सभी संस्थाओं को यह भी स्पष्ट किया जाता है कि जहाँ भोजन बनाया जाता है वह भोजन बनाने वाले रसोइयों या पैकिंग करने वालो के अलावा 2 लोगो से अधिक व्यक्ति न रहें। सभी थानों को निर्देशित किया जा रहा है कि ये कम्युनिटी किचन लोगो के इकठ्ठे होने के स्थान न बनें। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया है कि फ़ूड पैकेट या राशन किट मांगने वालों की भीड़ थानों, कंट्रोल रूम या किसी के आवास के बाहर न लगे और कोई घर से बाहर निकले तो सख्ती से कार्यवाही की जाए। लॉक डाउन का कल से दोबारा सख्ती से पालन हो।

मदद करनी है तो इन हेल्पलाइन नम्बरों पर दे सूचना


डीएम ने बताया कि वाराणसी जनपद में लगभग 2500-3000 भोजन की आवश्यकताओं वाले परिवारों को प्रतिदिन भोजन 5 वाहनो से दो समय उपलब्ध कराया जा रहा है। इस व्यवस्था को और सुदृढ़ करने के उद्देश्य से अब 2 हेल्प लाइन जारी की जा रहीं हैं। इसके लिए 3 नंबर जारी किए जा रहे हैं।


0542-2283305 निराश्रित व्यक्तियों/समूह की सूचना हेतु (जिन्हें भोजन की आवश्यकता है) जिस किसी को भी निराश्रित व्यक्ति या ऐसे परिवारो की जानकारी मिले जिसके पास भोजन बनाने के संसाधन न हों वे लोग इस लैंडलाइन नंबर पर सूचना दे सकते हैं। और कोई सूचना इस नम्वर पर नही ली जाएगी। 0542-2283306 निराश्रितों हेतु भोजन की सहायता प्रदान करने के लिये। जो व्यक्ति या संस्था किसी को पका पकाया भोजन देना चाहते हैं या ड्राई राशन देना चाहते हैं वे इस लैंडलाइन नंबर पर सूचना दे सकते हैं।

जो लोग या संस्था किसी को भी भोजन या राशन अपने स्तर से दे रहे हैं या दे चुके हैं वो भी कृपया इस नंबर पर सूचना दे कर अपने प्रयासों से अवगत कराएं ताकि समेकित विवरण पूरे जनपद का संकलित किया जा सके। इसके अलावा कोइ सूचना इस नंबर पर नही ली जाएगी। 7518102812 व्हाट्सएप्प नंबर इस नंबर पर ऊपर दी गई दोनों हेल्पलाइन के डिटेल मैसेज प्राप्त किये जायेंगे। लोकेशन, फ़ोन न. आदि का आदान प्रदान करने के लिए इस नंबर की सहायता ली जाएगी। ये केवल व्हाट्सएप्प नंबर है। इस पर कोई कॉल नही रिसीव की जाएगी।


इस व्यवस्था के प्रभारी उपाध्यक्ष वाराणसी विकास प्राधिकरण होंगे और इनके साथ खाद्य सुरक्षा के विहित प्राधिकारी और उनके फ़ूड इंस्पेक्टर की टीम होगी। यह सेल इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम से ही कार्य कर रही हैं। भोजन या राशन देने वालो के घरों से सामग्री इक्कठी वाहनों के द्वारा की जाएगी और वितरण भी वाहनों के द्वारा डोर स्टेप पर ही होगा। आगे से किसी भी संस्था या व्यक्ति को भोजन या राशन किट बांटने के लिए कोई पास जारी नही किया जाएगा।

You may have missed