वाराणसी : लॉक डाउन आज केवल दूध और दवा की दुकानें दिनभर खुलेंगी, यहा देखिए और क्या-क्या होगा बदलाव

वाराणसी : लॉकडाउन हो चुके वाराणसी में मंगलवार से और सख्ती की जाएगी। लोगों की सेहत से हो रहे खिलवाड़ पर प्रशासन और सख्ती के मूड में आ गया है। अब सिर्फ दवा और दूध की दुकानें ही दिनभर खुलेंगी। किराना समेत अन्य दुकानें दोपहर बारह बजे के बाद बंद करा दी जाएंगी। बिना वजह सड़कों या गली की नुक्कड़ पर खड़े लोगों का चालान करके जेल भेजा जाएगा। सोमवार रात से ही चुनावों की तरह जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी गई है। यह लोग तीन शिफ्ट में शहर में घूमकर लॉकडाउन का पालन कराएंगे।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के अनुसार लॉकडाउन के दौरान पहले दिन बड़ी संख्या में लोगों को सड़कों और गलियों में घूमते पाया गया। काफी लोग बाइकें लेकर भी तफरी करते पकड़े गए। झुंड लगाकर गली नुक्कड़ पर खड़े होकर नियमों का उल्लंघन करते भी लोग पाए गए। प्रशासन ने दो पहिया और चार पहिया का इस्तेमाल केवल इमरजेंसी के लिए ही करने की सहुलियत दी थी। लेकिन लोगों ने इसका दुरुपयोग किया। ऐसे लोगों पर एफआईआर दर्ज कर चेतावनी दी गई। चाय-कचौड़ी और पान की दुकानें भी खुली मिलीं। इन पर भी कार्रवाई की गई। कुल नौ लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुआ। 16 लोगों का धारा 151 में चालान किया गया। इतनी बेपरवाही के बाद प्रशासन ने मंगलवार से और सख्ती करने का फैसला किया है।

दवा और दूध की दुकानों के अलावा अब सभी प्रकार की दुकानें दोपहर 12 बजे तक बंद करा दी जाएंगी। दो और चार पहिया वाहन चलाने वालों को पकड़ा जाएगा। चौराहों पर लगे सीसीटीवी फुटेज से उनकी डिटेल निकालकर केस दर्ज कराया जाएगा। जिलाधिकारी के अनुसार लॉकडाउन की अवधि 25 मार्च के बाद भी बढ़ाई जा सकती है। जितने दिन लॉकडाउन का उल्लंघन लोग करेंगे उतने ही दिन ये बढ़ता रहेगा। लोगों पर नामजद कार्रवाई भी बढ़ती जाएगी। शहर के लोगों के साथ कुछ लोगों द्वारा खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जो लोग नुक्कड़ या मोहल्ले से बाहर राशन या दवा लेने निकलते मिले उन्हें धारा 151 में जेल भी भेजा जा सकता है।
कुछ थाना क्षेत्रों और मोहल्लों में बड़ी संख्या में लोग घरों से बाहर घूमते पाए गए हैं। कुछ इमारतें, वर्कशॉप और हाते भी चिन्हित किये गए हैं। ऐसे क्षेत्रों के बारे में एसएसपी से रिपोर्ट मांगी गई है। ऐसे इलाकों में सभी तरह की दुकानें बंद कराकर इलाके को ही लॉकडाउन कराने और उस मुहल्ले को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन करने पर विचार हो रहा है।


लॉकडाउन होने के बाद भी कुछ धार्मिक स्थल बंद नहीं किये गए हैं। ऐसे धार्मिक स्थलों के धर्मगुरुओं के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी हो रही है। प्रशासन का मानना है कि तत्काल इन धार्मिक स्थलों पर लोगों की आवाजाही नहीं रोकी गई तो बड़े पैमाने पर बीमारी फैलने का अंदेशा है। डीएम के अनुसार कुछ धर्मगुरुओं ने अभी तक मानवता की भावना का परिचय नहीं दिया है। यह लोग गोलमोल बयान जारी कर केवल सफाई आदि की अपील कर रहे हैं। अभी तक अपने धार्मिक स्थल बंद नहीं किये और न ही उनके लाउड स्पीकर के माध्यम से लोगों को घरों में ही रहने की अपील की जा रही है। अभी भी वह अपनी जिम्मेदारी नहीं समझ रहे हैं। ऐसे इलाकों में 14 दिन का फुल लॉकडाउन करने की नौबत आ सकती है।

कलक्ट्रेट में सोमवार से 24 घंटे काम करने वाला कॉल सेन्टर खोल दिया गया है। यहां किसी भी विभाग से संबंधित समस्याएं बताई जा सकती हैं। यहीं से संबंधित विभागों को अलर्ट कर समस्याएं सुलझाई जाएंगी। लोगों से अपील की गई है कि शहर की समस्याओं के लिए वह काल सेंटर के नंबर 0542-2508585 पर फोन कर अपनी समस्या बता सकते हैं। काल सेंटर 24 घंटे तीन शिफ्ट में चलेगा। हर शिफ्ट में 5 संग्रह अमीनों की ड्यूटी लगाई गई है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग का कंट्रोल रूम भी पहले की तरह चलता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *