December 5, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : BHU कोविड-19 वार्ड से लापता युवक का मिला शव, परिजनों ने बीएचयू प्रशासन और डॉक्टरों पर लगाया बड़ा आरोप

वाराणसी : काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के सर सुंदरलाल हॉस्पिटल के सुपर स्पेशियलिटी सेंटर में बने कोविड-19 वार्ड से रविवार को जिस मरीज के लापता होने का मामला आया था। वही सोमवार की देर शाम वही अस्पताल के एक किनारे उसकी शव पड़ा मिला। गार्ड की सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिवार के लोगों को बुलाकर पहचान कराई। परिजनों रविवार को लंका थाने पहुंचकर लिखित सूचना दिया था। जिसके बाद बीएचयू प्रशासन की तरफ से बयान आया की वह ठीक होकर चला गया। शव मिलने के बाद बीएचयू प्रशासन सन्न है।

वाराणसी के लंका थाना क्षेत्र के डाफी का रहने वाला युवक 11 अगस्त को बीएचयू पोस्टमार्टम हाउस के सामने दुर्घटना में घायल हो गया था। जिसके बाद परिजनों ने बीएचयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया था। जो 15 तारीख को उसे कोविड पॉजिटिव जांच के बाद कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। जहां परिवार के लोगों को मिलने नहीं दिया गया। वही शनिवार को उसी बिल्डिंग की खिड़की से उसने अपनी मां से कहा कि मुझे यहां से निकाल लो। रविवार की दोपहर परिवार वाले हॉस्पिटल गए तो उन्हें बताया गया कि वह कहीं चला गया।

परिजनों ने वहां मौजूद गार्ड से पूछा कि ऐसे कैसे कोई मरीज चला जाएगा, तो गार्ड ने कहा कि जाकर ऊपर अधिकारियों से बात करो। रविवार की देर रात कोविड वार्ड की चौथी मंजिल से कूदकर एक युवक की जान चली गयी थी। मृतक के छोटे भाई मोनू के साथ सोमवार की सुबह काफी संख्या में लोगों ने हंगामा भी किया जिसके बाद पुलिस पहुंचकर शांत कराई। मृतक लंका के ही रहने वाले एक डॉक्टर की गाड़ी चलाता था।

परिजनों ने किडनी निकालने का लगाया आरोप

पुलिस द्वारा सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे अजय के छोटे भाई मोनू, पिता छविनाथ, मां ममता और दो बहने मौके पर पहुंची जिसके बाद शव देखते ही दहाड़ मारकर रोने लगए। भाई मोनू और परिवार के लोगों का आरोप है कि उसकी किडनी निकालने के बाद उसे फेंक दिया गया है। मौके पर हंगामे की सूचना पाकर बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर सुरक्षाकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे तो परिवार वालों के विरोध को देखते ही वहाँ से चले गए। हंगामा और विरोध को देखते हुए मौके पर काफी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। मृतक के भाई मोनू का आरोप है कि उसके पास जो मोबाइल था वह भी गायब हो गया है। मोनू का आरोप है कि इस मामले में पुलिस वाले सुरक्षाकर्मियों से जब बात करने गए तो सुरक्षाकर्मी उनसे भी दुर्व्यवहार किये।

इंस्पेक्टर लंका महेश पांडेय ने बताया कि बिल्डिंग के किनारे लगी पाइप को पकड़कर उतरने की कोशिश में गिर जाने से हादसा हुआ होगा। मामले की जांच उच्चाधिकारियों के द्वारा करने के बाद उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यहां देखे वीडियो

You may have missed