November 24, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : BHU की प्रवेश परीक्षा आज से शुरू, तीन शिफ्टों में होंगी परीक्षाएं

वाराणसी : काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) की प्रवेश परीक्षाएं सोमवार से आरंभ हो रही हैं। पहले दिन 38 पाठ्यक्रमों की परीक्षा है। इसके लिए देशभर में 142 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा में 39, 835 परीक्षार्थी शामिल होंगे। पहली पाली में 13 पाठ्यक्रमों की परीक्षा 142 शहरों के 175 केंद्रो पर होगी। दूसरी पाली में 21 पाठ्यक्रमों की और तीसरी पाली में चार पाठ्यक्रमों की परीक्षा है।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय(BHU) प्रवेश परीक्षा आज (सोमवार) से कुल 22 केंद्रों पर शुरु हो रही है, जिसमें 17 केंद्र शहर में और बाकी के पांच बीएचयू कैंपस में बनाए गए हैं। खास बात यह है कि बीएचयू में ऑफलाइन परीक्षा देने वाले अभ्यर्थी ही शामिल होंगे। जबकि बनारस के 17 केंद्रों पर ऑनलाइन परीक्षा होगी, जिसमें 4986 परीक्षार्थी बैठेंगे।

बीएचयू में विज्ञान भवन का लेक्चर कांपलेक्स, आइएमएस का लेक्चर कांपलेक्स, वाणिज्य संकाय, विधि संकाय, कृषि संस्थान को परीक्षा केंद्र बनाया गया है। यह परीक्षा 24 से लेकर 31 अगस्त तक होगी।

तीन शिफ्टों में होंगी परीक्षाएं

प्रवेश परीक्षा तीन शिफ्ट सुबह 08:30 से 10:30, दोपहर 12:30 से 02:30 और शाम 4:00 से 06:00 बजे से होगी। परीक्षा केंद्रों को लेकर अभ्यर्थियों में किसी प्रकार का कोई संदेह यह भटकाव न हो इसके लिए जगह-जगह सूचना पट्ट, मार्ग दर्शक चित्र और बोर्ड लगा दिए गए हैं, जिससे छात्र सुगमता से परीक्षा हाल तक पहुंच सके।

इस बीच बीएचयू प्रशासन ने कोविड के मानकों के पालन को लेकर कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जारी एसओपी का सख्ती से पालन किया जाएगा। सड़कों पर नोटिस के माध्यम से हैंड सैनिटाइजेशन और शारीरिक दूरी के मानकों का पालन कराया जाएगा।

बीएचयू प्रवेश परीक्षा 24 से 31 अगस्त तक देश के दो सौ सेंटर पर आयोजित की जानी है। इसको लेकर अब एक यह मुद्दा तूल पकड़ रहा है कि उन दिनों कई राज्यों में संपूर्ण लॉकडाउन लगा होगा, जिसमें पश्चिम बंगाल और बिहार जैसे राज्य भी शामिल हैं। इस तरह से अभ्यर्थी किस तरह परीक्षा हाल तक पहुंचेगा। लेकिन वहीं यूजीसी की वेबसाइट पर केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की परीक्षा कराने के मानक नामक एक गाइडलाइन के मुताबिक छात्रों के एडमिट कार्ड को लॉकडाउन में यात्रा या आवाजाही के लिए पास की तरह माना जाए। इसमें बताया गया है कि इसको लेकर राज्य सरकार द्वारा एक सूचना सभी स्थानीय प्रशासन को जारी किया जाना चाहिए।