November 29, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : BHU कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज होकर मरीज पहुंचा रिश्तेदार के घर, लापता समझकर परिजन बैठे थे धरने पर

वाराणसी : बीएचयू कोविड अस्पताल के एल-3 कोविड वार्ड से डि‍स्‍चार्ज होने के बाद एक बुजुर्ग मरीज का जब पता नहीं चला तो आक्रोशि‍त परि‍जनों ने अस्पताल के बाद हंगामा शुरू कर दिया इसके बाद बीएचयू के सिंहद्वार पर आकर धरने पर बैठकर प्रदर्शन करने लगे। परि‍जनों ने बीएचयू कोवि‍ड अस्‍पताल पर आरोप लगाया कि‍ उनके मरीज को गायब कर दि‍या गया है।

यहां भी पढ़े : सांकेतिक रूप में होंगी रामलीला, घर-घर मुखौटों में दिखेंगे स्वरूप

वहीं बीएचयू कोवि‍ड वार्ड की ओर से लगातार ये बात कही गयी कि‍ मरीज को ठीक होने पर रात में ही डि‍स्‍चार्ज कर दि‍या गया था। काफी देर बाद बुजुर्ग मरीज के बारे में पता लगा कि‍ वे अपने रि‍श्‍तेदार के घर रुक गये थे। गुरुवार को 60 वर्षीय एक कोरोना पेशेंट के परिजनों ने बीएचयू सिंह द्वार पर प्रदर्शन शुरू कर दिया। उन्‍होंने आरोप लगाया कि‍ उनका मरीज़ बीएचयू अस्पताल से लापता है। इधर बीएचयू प्रशासन का कहना था कि‍ हमने उक्त मरीज़ को रात साढ़े 10 बजे ही डिस्चार्ज कर दिया है।

यहां भी पढ़े : BHU कोविड अस्पताल से एक और मरीज हुआ लापता, मचा हड़कंप, धरने पर बैठे परिजन

इस सूचना के बाद वाराणसी में हड़कंप मच गया। इससे पहले भी बीएचयू के कोवि‍ड वार्ड से ऐसी घटनाओं के सामने आने के बाद लोगों ने बीएचयू कोवि‍ड अस्‍पताल को कोसना भी शुरू कर दि‍या। मगर जब जांच हुई तो मामला कुछ और ही नि‍कला। मरीज के परि‍जन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच में पाया कि‍ मरीज अपने रि‍श्‍तेदार के घर चले गये हैं।

बता दें कि‍ रोहनिया निवासी 60 वर्षीय मरीज को चोट लगने के बाद पहले उन्‍हें ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था, जहां उसका सैंपल लेकर कोरोना की जांच कराई गयी। कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्‍हें कुछ दिन पहले ही सुपरस्पेशियलिटी वार्ड में भर्ती कराया गया। परिजनों के अनुसार उन्हें रात में ही अस्‍पताल से फोन आया था कि आप का मरीज़ स्वस्थ हो गया है उसे आकर ले जाएँ। इस पर जब परि‍जन सुबह अस्‍पताल पहुंचे तो मरीज़ लापता मिला।

यहां भी पढ़े : BHU कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज होकर मरीज पहुंचा रिश्तेदार के घर, लापता समझकर परिजन बैठे थे धरने पर

परिजनों ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन ने हमसे कहा कि वो तो चले गए पर वो अभी घर नहीं पहुंचे। परिजनों द्वारा धरना प्रदर्शन की सूचना मिलने पर पहुंचे बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर प्रोफ़ेसर ओपी राय ने परिजनों से बातचीत की। अस्पताल प्रशासन लगातार कहता रहा कि‍ मरीज को रात में ही डिस्चार्ज कर दिया गया था, जबकि परिजनों का कहना है कि मरीज अब तक घर नहीं पहुंचा। परि‍जन काफी देर तक बीएचयू सिंह द्वार पर प्रदर्शन कर अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते रहे।

हालांकि‍, खोजबीन के बाद मरीज अपने रि‍श्‍तेदार के घर सही सलामत मि‍ले। जि‍सके बाद सबने राहत की सांस ली।

You may have missed