वाराणसी : लगभग हर 4 में से एक व्यक्ति को फैटी लिवर रोग है : डॉ० वीके दीक्षित

वाराणसी। 10 जून को दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय NASH दिवस मनाया जाता है और इसका लक्ष्य है आम जनता के बीच चिकित्सकीय जानकारी का प्रसार करना। सामान्य परिस्थितियों में एक स्वस्थ्य लिवर में बेहद कम वसा होती है फैटी लिवर रोग एक विस्तृत रोग है। जिसमें कई प्रकार की लिवर की बीमारियाँ शामिल होती है।

फैटी लिवर रोग का मतलब है लिवर में अत्यधिक वसा का जमा होना। कम शराब पीने या नहीं पीने वाले लोगों के लिवर में वसा के जमा होने की स्थिति को नाॅन-अल्कोहाॅलिक फैटी लिवर डिसीस या NAFLD कहते है।

नाॅन-अल्कोहाॅलिक स्टीटोहेपेइटिस ( NASH ) नाॅन-अल्कोहाॅलिक फैटी लिवर डिसीस का गंभीर रूप है जो नाॅन-अल्कोहाॅलिक फैटी लिवर डिसीस (NAFLD) से पीड़ित 15-20 प्रतिशत लोगों को होता है।

उपचार न कराये जाने पर NASH सिराॅसिस का और बाद में लिवर कैंसर का रूप ले सकता है। शुरूआती चरण में NAFLD के कोई विशिष्ट लक्षण नहीं होते, लेकिन कुछ लोगों को भूख कम लगने, सुस्ती और पेट में अनिश्चित दर्द जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं। NAFLD सामान्यतः शांत रहता है, लेकिन चिकित्सक की सलाह न मानने वाले लागों में यह बाद में लिवर फाइब्रोसिस और लिवर खराब होने की स्थिति और लिवर कैंसर तक का रूप ले सकता है।

डाॅक्टर के पास नियमित रूप से जाने का सुझाव दिया जाता है तथा लिवर एन्जाइम्स पर विशिष्ट प्रक्रिया एवं जाँच इसकी समय पर पहचान और नियंत्रण में सहायक होती है। सांख्यिक पद्धति के साथ किये गये एक विश्लेषण के अनुसार फैटी लिवर की कुल वैश्विक उपस्थिति लगभग 25.24 प्रतिशत पाई गयी है। सबसे ज्यादा प्रकोप मध्य पूर्व में पाया गया है।जहाँ यह 31.79 प्रतिशत लोगों को प्रभावित करती है, इसके बाद बारी आती है 30.45 प्रतिशत के साथ दक्षिण अमेरिका की और सबसे कम प्रकोप अफ्रीफा में 13.48 प्रतिशत के साथ पाया जाता है।

लगभग हर 4 में से 1 व्यक्ति को फैटी लिवर रोग है। उनमें 4 में से 1 व्यक्ति NAFLD (25-30 प्रतिशत) से पीड़ित है। उनमें से हर 5 में से 1 व्यक्ति (20-25 प्रतिशत) को NASH हो सकता है। 70 प्रतिशत डायबिटीज पीड़ित और 80 प्रतिशत मोटापे तथा ज्यादा वजन से पीड़ित लोगों को फैटी लिवर है।

जब आपके लिवर की बात हो, तो हमेशा लिवर का ध्यान रखना सुनिश्चित करें। लिवर की कार्यप्रणाली को सामान्य करने के लिए NASH आहार महत्वपूर्ण है। अगर आप NASH से पीड़ित हैं। आपको किन खाने की चीजों से बचना चाहिए शराब न पियें, सैचुरेटेड वसा से बचें और लाल मांस न खायें, कम वसा वाले उत्पादों के अलावा अन्य सभी डेरी उत्पादों से बचें, जहाँ तक संभव हो, सोडियम को सीमित करें, आहार में अतिरिक्त चीनी न मिलायें। आपको कौन सी चीजें खानी चाहिए: ज्यादा से ज्यादा फल और सब्जियाँ खायें, फाइबर युक्त खाने की चीजें ज्यादा खायें और जैसे होल व्हीट ब्रेड ब्राउन राइस, रावस जैसी वसायुक्त मछलियाँ लिवर के लिए बेहद लाभकारी होती हैं।

अपने आहार में फलियाँ, त्वचारहित चिकन टर्की, वसारहित सूअर का मांस शामिल करें,रक्त परीक्षण, पेट का अल्ट्रा साउंड सीटी स्कैन और एमआरआई स्कैन नाॅन-अल्कोहाॅलिक स्टीटेहेपेटाइटिस होने का पता लगाने में बेहद सहायक हो सकते हैं। NASH के उपचार विकल्पः आहार के बदलावों का ताल-मेल और वनज कम करने में सहायक शारीरिक गतिविधि बढ़ाना उपचार का मुख्य हिस्सा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *