December 4, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : BHU राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा “राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन” की 24वी कड़ी का हुआ आयोजन

वाराणसी। काशी हिंदू विश्वविद्यालय राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में “आत्मनिर्भर भारत: जागे युवा -जागे भारत” कार्यक्रम श्रृंखला में एक भारत श्रेष्ठ भारत अभियान के तहत 24 वाँ ऑनलाइन राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन में युवा कलाकारों ने प्रस्तुत किए एक भारत श्रेष्ठ भारत के उदाहरण।

राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन का उद्घाटन मुख्य अतिथि के रूप में अरुणोदय विश्वविद्यालय अरुणाचल प्रदेश के कुलपति प्रोफ़ेसर बी एन शर्मा ने किया । अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम का मूल उद्देश्य युवाओं में सांस्कृतिक चेतना और राष्ट्रीय एकता की भावना का विकास करना है निश्चित रूप से ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से भारत को हम सांस्कृतिक एकता के सूत्र में बांधने में सफल हो सकते हैं।

विशिष्ट अतिथि के के रूप में चेन्नई विश्वविद्यालय में भारतीय संगीत विभाग की अध्यक्षता प्रोफेसर राजेश्री रामकृष्णन ने कहा कि आज हम जिस दौर से गुजर रहे हैं उसमें सबसे अधिक जरूरी है मानसिक शांति और आध्यात्मिक चेतना के विकास की जिसके लिए संगीत का स्थान प्रमुख है।

राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन की अध्यक्षता आगरा विश्वविद्यालय के बैकुंठी देवी महिला पीजी महाविद्यालय में संगीत विभाग की अध्यक्षा प्रोफ़ेसर अमिता शर्मा ने की। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में उन्होंने कहा कि भारत की सांस्कृतिक विविधता हमें विरासत में मिली है जिसे हमें अपने आने वाली पीढ़ी को देना है जिसके लिए हमें सतत प्रयास करना चाहिए यदि हम आने वाली पीढ़ी तक भारतीय संगीत की परंपरा को समृद्ध रूप से पहुंचा पाते हैं तो निश्चित रूप से भारत का भविष्य गौरवशाली होगा

आत्मनिर्भर भारत जागे युवा जागे देश और एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम के आयोजन के विविध पक्षों पर भारत सरकार राष्ट्रीय सेवा योजना के क्षेत्रीय निदेशक डॉ० अशोक श्रोति ने प्रकाश डाला। वही सम्मेलन का शुभारंभ चेन्नई की युवा कलाकार शालिनी मुथुकुमार के शास्त्रीय गायन से हुआ। उन्होंने कार्यक्रम का समापन प्रभु श्री राम को समर्पित भजन से किया। राष्ट्रीय युवा संगीत की दूसरी प्रस्तुति के रूप में आगरा की कलाकार श्री गायत्री ने तबला वादन की प्रस्तुति की।

राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन का समापन जालंधर के युवा कलाकार सर्वश्री राहुल सहोता के शास्त्रीय गायन से हुआ। उन्होंने अपने गायन की शुरुआत गुरु नानक देव जी की रचना से की। इसके उपरांत उन्होंने राग मारू बिहाग में शास्त्रीय गायन की प्रस्तुति की। इनके साथ हारमोनियम पर साथ दे रहे थे। प्रोफेसर अश्वनी कुमार और तबला की प्रस्तुति डॉ० मोनू कुमार कर रहे थे।

राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन में आकाशवाणी पटना के पूर्व क्षेत्रीय केंद्र निर्देशक श्री त्रिपुरारी कांत शर्मा , उत्तर प्रदेश सरकार के राज्य संपर्क अधिकारी एवं विशेष कार्याधिकारी डॉ० अंशुमाली शर्मा , पूर्व कार्यक्रम सलाहकार डॉ० सतीश कुमार साहनी, राष्ट्रीय संगीत के परिवार के महानिदेशक पंडित देवेंद्र वर्मा, अरुणाचल प्रदेश के अरुणोदय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बीएन शर्मा, पंजाबी विश्वविद्यालय पटियाला के संगीत विभाग की प्रोफेसर पंकज माला शर्मा,पटना विश्वविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना की अधिकारी डॉ पूनम सिंह, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय की डॉ० लावण्या कीर्ति सिंह काव्या।

कार्यक्रम अधिकारी डॉ मोनिका अरोरा, डॉ एकता चौहान, डॉ रेनू भटनागर, डॉ० रीता सिंह, डॉ० सुनीता गुप्ता, डॉ० सच्चिदानंद त्रिपाठी, डॉ० रश्मि सक्सैना, डॉ० दिवाकर डॉक्टर श्रीनिवास तिवारी, डॉ० भूपेंद्र कुमार, सहित अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने सहभागिता की। कार्यक्रम कार्यक्रम का संचालन डॉ बाला लखेन्द्र ने किया। कार्यक्रम का समापन डॉ चिन्मय राय के धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।