December 4, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : संविदा शिक्षकों का सत्याग्रह का 16वां दिन, नही पहुंचा कोई जिम्मेदार अधिकारी

वाराणसी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ कुलपति के सकारात्मक संकेत के बाद भी अब तक कोई निर्णय नहीं हो सका। संविदा अध्यापक अब भी कुलपति के निर्णय का इंतजार कर रहे हैं। संविदा अध्यापकों ने मंगलवार को बैठक में निर्णय लिया है, कि विद्यापीठ प्रशासन जब तक जुलाई माह से वेतन का भुगतान और उत्तर प्रदेश सरकार का शासनादेश लागू नहीं कर देता तब तक हम लोगों का सत्याग्रह चलता रहेगा।

इस संदर्भ में संविदा शिक्षकों ने कहा कि हम लोगों के सत्याग्रह का 16 वॉ दिन है किंतु दुर्भाग्यपूर्ण है कि विद्यापीठ प्रशासन का कोई भी जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी हम लोगो से मिलने नही आया। यह विद्यापीठ प्रशासन की संवेदनहीनता का प्रतीक है। कुलपति जी 4 माह से लगातार आश्वासन दे रहे हैं। इससे लगता है कि जहां केंद्र सरकार भारत को विश्वगुरु बनाना चाहती हैं वहां विद्यापीठ के कुलपति शताब्दी वर्ष में विद्यापीठ को अश्वासन गुरु बनाना चाहते हैं।

केंद्र सरकार निरंतर संवेदनशील होकर कोविड-19 के दौर में देश के उद्योगपतियों से निरंतर किसी का वेतन ना रोकने की अपील की लेकिन विद्यापीठ प्रशासन ने निरंतर संवेदनहीनता का रुख अपनाया और संविदा शिक्षकों का वेतन 4 माह से रोक रखा है। शिक्षकों ने कहा शिक्षको का शोषण करोना महामारी से बड़ा संक्रमण है। इस संक्रमण का एकमात्र इलाज सत्याग्रह है। इसलिए हम लोग अपनी मांग पूरी होने तक निरंतर सत्याग्रह करते रहेंगे।

सत्याग्रह स्थल पर कई विभागाध्यक्षो एवं संकायाध्यक्षो ने समर्थन किया। आप लोगों की मांग जायज है। हम लोग आज सुबह से इंतजार करते रहे कि आज बैठक की सूचना आएगी। लेकिन सांयकाल तक कोई संदेश नहीं आया है । बैठक में सर्व डॉ० एसपी एन सिंह, डॉ० शशिकांत, डॉ० निर्मला, प्रशांत विश्वकर्मा, डॉक्टर मानिक चंद्र पांडे आदि लोग उपस्थित रहे।