March 7, 2021

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : सेवापुरी विकास खंड को देश का प्रथम मॉडल ब्लॉक बनाने के लिए कई सक्रिय कदम उठाये गये हैं- मुख्य विकास अधिकारी

वाराणसी। मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी ने बुधवार को नीति आयोग के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट सेवापुरी विकास अभियान के अंतर्गत चल रहे स्वच्छता, स्वास्थ्य व शिक्षा संबंधी कार्यों की समीक्षा के दौरान बताया कि सेवापुरी विकास खंड को देश का प्रथम मॉडल ब्लॉक बनाने हेतु कई सक्रिय कदम उठाये गये हैं। इसमें जन-जागरूकता एवं व्यवहार परिवर्तन हेतु पंचायत-स्तरीय चौपाल बैठकें, स्वच्छता मेलों का आयोजन व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्तरीय आरोग्य स्वास्थ्य मेला का आयोजन जैसे नवीनतम आयाम जुड़ चुके हैं।

मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी ने बताया कि ऐसा ही एक आयोजन में विगत 7 फरवरी को माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जनपद आगमन पर अमिनी ग्राम पंचायत में संपन्न हो चुका है। सेवापुरी में शैक्षणिक गतिविधियों को विभिन्न स्तरों पर बढ़ावा दिया गया है। “मेरा घर, मेरा स्कूल” अभियान के अंतर्गत मोहल्ला कक्षाएं चलाई जा रही हैं जिनमें बच्चों को नियमित तौर पर नई शिक्षण सामग्री से जोड़ा जा रहा है। कक्षा 1-5 तक के छात्र-छात्राएं पंचायत भवन संचालित मोहल्ला कक्षाओं में मानचित्र व कविता के माध्यम से भाषा एवं सामान्य ज्ञान की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं।

इसी प्रकार “मिशन प्रेरणा” के अंतर्गत अभिभावकों के जुड़ाव एवं प्रेरणा तालिका के संबंध में बेहतर समझ के लिए कक्षा 6, 7 एवं 8 के बच्चे बाल पथिक की भूमिका में जागरूकता बढ़ा रहे हैं। बच्चों के शैक्षणिक स्तर के आकलन के लिए नियमित परीक्षा ली जा रही है जिससे कमजोर बच्चों पर विशेष ध्यान दिया जा सके। स्मार्ट क्लासेज और दीक्षा प्लेटफार्म के जरिए बच्चों को ऑनलाइन शिक्षण सामग्री से जोड़ा गया है। “रीड अलोंग एप्प” के जरिए जागरूक अभिभावक बच्चों को घरों पर ही शिक्षण सपोर्ट देने में सक्षम हो रहे हैं।

समस्त विद्यालयों में ऑपरेशन कायाकल्प के अंतर्गत 9 टाइलीकरण, वाल पेंटिंग, हैंडवाश प्लेटफार्म इत्यादि लगाए गए हैं। आदर्श विकासखंड सेवापुरी में शैक्षिक गतिकी अभियान द्वारा संपन्न हो रही प्रगति की नवीनतम विधाओं से शिक्षकों, बच्चों और अभिभावकों में काफी उत्साह है। मुख्य विकास अधिकारी ने आशा जताई कि आगामी मार्च मास से विद्यालय खुलने के उपरांत इस प्रक्रिया को और गति मिलेगी। इस पूरे प्रयास में ख्याति प्राप्त विभिन्न संस्थाओं जैसे- पीरामल फाउंडेशन, प्रथम, एलएलएफ, रूम टू रीड व माइक्रोसेव का ज़िला प्रशासन को निरंतर सहयोग प्राप्त हो रहा है।