December 4, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : प्रसिद्ध तुलसीघाट की नाग नथैया आज, काशी नरेश भी होंगे शामिल, कोविड-19 नियमों का करना होगा पालन

वाराणसी। काशी के लक्खा मेले में शुमार नाग नथैया मेला आज कोरोना काल में कोवि‍ड-19 गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए आयोजि‍त कि‍या जाएगा। इस लीला की तैयारी ज़ोर शोर से संकटमोचन मंदिर के महंत और लीला व्यवस्थापक प्रोफ़ेसर विश्वम्भरनाथ मि‍श्र के आवास पर चल रही है।

प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी भगवान कृष्‍ण कालिया नाग के अहंकार का मान मर्दन करते नज़र आएंगे। ये लीला तुलसीघाट पर आयोजि‍त होती है, जहां थोड़ी देर के लि‍ये मां गंगा यमुना स्‍वरूप में बदल जाती हैं। इस दौरान परंपराओं का निर्वहन करने महाराज कुंवर अनंत नारायण सिंह भी मेला स्थल पहुंचेंगे और श्रीकृष्‍ण का पात्र नि‍भाने वाले बालक को सोने की गिन्नी प्रदान करेंगे।

इस सम्बन्ध में प्रोफेसर विश्वम्भरनाथ मिश्रा ने बताया कि गोस्वामी तुलसीदास द्वारा 450 साल पहले शुरू कराई गई लीला का प्रमुख प्रसंग बुधवार को दोपहर तीन बजे जीवंत होगा। इसमें विशाल नाग के फन पर चढ़कर भगवान श्रीकृष्ण जल में परिक्रमा करते हुए दर्शन देंगे। लीला समिति सदस्यों के साथ मिल कर माझी समाज के लोगों ने लगभग 12 फीट लंबे नाग को आकार दिया है। लीला से ठीक पहले नाग को जल में डुबा दिया जाएगा।

महंत ने बताया कि शाम तुलसीघाट ब्रज बनेगा और मां गंगा बनेंगी यमुना। ठीक शाम 4.40 बजे प्रभु श्रीकृष्ण कदंब की डाल से कूदेंगे और कालिया नाग को नाथ कर उसके फन पर नृत्य मुद्रा में वेणु वादन करते दर्शन देंगे।

कोरोना महामारी को देखते हुए महंत प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने काशीवासियों से घाट पर भीड़ न लगाने की अपील की है। बताया कि बच्चे और बुजुर्ग घरों पर ही रहें। लीला स्थल पर इस वर्ष सीमित लोग ही मौजूद रहेंगे। उन्‍होंने लोगों से अपील की है कि‍ वे घर पर रहकर भगवान की आराधना करें।

इससे पूर्व मंगलवार को एसपी सिटी विकास चन्द्र त्रिपाठी ने सुरक्षा के मद्देनजर तुलसीघाट और लीला स्थल का भ्रमण क़िया। तैयारियों के बारे में महंत प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र से मुलाकात की और आयोजन को लेकर वार्ता की।