November 30, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

लखनऊ : वैज्ञानिकों के बच्चों ने अपने गुल्लकों से पैसे निकालकर, पीएम रिलीफ फंड में दिया योगदान

कोरोना वायरस जैसे महामारी से लड़ने के लिए लखनऊ के वैज्ञानिकों के बच्चों ने अपने-अपने गुल्लकों को फोड़कर पैसे निकालकर पीएम रिलीफ फंड में योगदान दिया।

लखनऊ की चार सीएसआईआर प्रयोगशालाओं (आईआईटीआर, सीडीआरआई, एनबीआरआई एवं सीमैप) के वैज्ञानिकों के बच्चो ने पीएम रिलीफ फंड में पैसे देने के लिए अपने गुल्लक तोड़ दिए। अभी कुल 12 बच्चों ने अपने जमा पैसों को देशहित में कोराना से राहत के लिए देने का अनूठा फैसला किया है। बच्चों के अनुसार यह क्रम आगे भी जारी रहेगा। कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में चेरष्य, अथर्व, वैष्णवी, आराध्या, गौरी, अनीका, श्रीयाली, अक्षरा, काव्या, हर्ष, खुशी, एवं मानास्वी अब तक कुल अंशदान ₹24, 698 दान दिए है।

लॉकडाउन के दौरान समय का पूरा सदुपयोग कर रहे बच्चे

कोविड-19 से बचने के लिए यह नन्हे-मुन्हे बच्चे समाज में जागरूकता फैलाने का भी कार्य कर रहे हैं। यह सभी बच्चे लॉकडाउन के दौरान अपने समय का पूरा सदुपयोग कर रहे हैं। जिसमें अपनी पढ़ाई, मनोरंजन के साथ साथ समाज में चेतना जाग्रत करने का भी प्रयास कर रहे हैं। इसी क्रम में क्लास 3 की छात्रा वैष्णवी और यूकेजी की अक्षरा ने हैंडवाश करने के इनोवेटिव वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किए हैं। वहीं आराध्या, अनिका, वैष्णवी ने ड्रॉइंग बनाई है।


बच्चों ने देश की जनता से की अपील

हम बच्चे अपने डॉक्टर अंकल, पुलिस अंकल, सफाई वाले अंकल, नर्स दीदी एवं अन्य सभी को नमन करते हैं जो हम लोगों को बचाने के लिए कोरो ना से लड़ाई लड़ रहे हैं। हम बाकी अंकल, आंटी, भईया एवं दीदी से अपील करते हैं कि सभी अपने घर पर रहें। हम बच्चे भी खेलने नही निकल रहे और तब तक नही निकलेंगे जब तक हमारा देश कोरोना को हरा नही देता। हम सभी यह भी विनती करते हैं कि आप सभी भी इस संकट के समय, जिन लोगो को जरूरत है उनकी मदद के लिए हर संभव तरीके से आगे आए, हम सभी मिलकर ही इस विपत्ति से मुकाबला कर सकते हैं। हम सभी कुछ समय पर हैंड वाश कर रहे हैं, अपने आंख, मुंह एवं नाक को हाथ से नहीं छू रहे हैं, खूब फल एवं सब्जी अच्छे से धो कर खा रहे हैं। हम सभी बच्चे अपने प्रधानमंत्री मोदी जी का भी धन्यवाद् करते हैं की वो हमको सरलता से कोरोना से बचने का तरीका भी बताते हैं।

You may have missed