March 3, 2021

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन : अब इस देश के राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को कहा हनुमान, संकट की घड़ी में हनुमान की तरह पहुचाई संजीवनी बूटी

नई दिल्ली : एक ओर जहां पूरा विश्व कोरोना वायरस के संकट से घिरता जा रहा जाए। वही इसी बीच भारत की तरफ से अधिक प्रभावित देशों को हर संभव मदद दी जा रही है। अमेरिका के बाद अब ब्राजील ने भी भारत को इस मदद के लिए शुक्रिया कहा है। ब्राजील के राष्ट्रपति जेर बोलसोनारो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी है। जिसमे इस मदद की तुलना भगवान हनुमान से की है और भेजी गई दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को संजीवनी बूटी बताया है। दरअसल, ब्राजील के राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भगवान हनुमान बताते हुए कोविड-19 के इलाज के लिए भारत से भेजी गई मलेरिया की दवा “हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन” को संजीवनी बूटी बताया है। वही इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को “महान” कहा है।

बता दे कि अब तक 30 देशों ने भारत सरकार से इन दवाओं की मांग कर चुके हैं। बीते शनिवार भारत सरकार ने इसके निर्यात को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया है। वही इससे पहले बता दे कि शुरुआत में ब्राजील के राष्ट्रपति ने कोरोना वायरस के संक्रमण को सामान्य फ्लू बताया था। उन्‍होंने स्‍वयं सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्‍लंघन कर ब्राजीलिया में बाहर निकल अपने समर्थकों से मुलाकात की और अर्थव्यवस्था को गति देने की अपील की। सोशल मीडिया के ट्विटर प्‍लेटफार्म पर भी उन्‍होंने कई विवादित पोस्‍ट किए जो बाद में हटा लिया गया था। देश के विभिन्न प्रांतों के गवर्नर और शहरों के मेयर द्वारा घोषित क्वारंटाइन पर सवाल खड़ा किया।

राष्‍ट्रपति बोल्सोनारो ने कहा, ‘यदि इसी तरह चलता रहा तो इससे बेरोजगारी बढ़ेगी और आने वाले समय में कई और मुश्‍किलों का सामना करना पड़ेगा। ब्राजील रुक नहीं सकता। अगर ऐसा हुआ तो हम वेनेजुएला बन जाएंगे।’ एक अन्य पोस्‍ट में कहा, ‘कुछ लोग चाहते हैं कि मैं भी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए घर में रहूं। लेकिन यह जीवन है। एक दिन सबको मर जाना है।’रॉयटर्स के अनुसार, ब्राजील में बुधवार तक 14 हजार से अधिक संक्रमण के मामले आए हैं। मंगलवार को कोविड-19 से प्रभावित देशों को ‘हाइड्रॉक्‍सीक्‍लोरोक्‍वीन व पैरासिटामोल’ के आपूर्ति की अनुमति भारत सरकार ने दे दी।

You may have missed