December 5, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

अयोध्या : PM MODI ने राम मंदिर की रखी आधारशिला, पीएम ने रामभक्तों को दी बधाई

अयोध्या : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला रखी। राम मंदिर निर्माण के लिए पहले शिलाओं का पूजन किया गया। जिला में नंदा, भद्रा, जया, रिक्ता, पूर्णा, अजीता, अपराजिता, शुक्ला व सौभाग्य शामिल हैं। पूजन के बाद इन शिलाओं को राम मंदिर में सुरक्षित रखा जाएगा। पुनः नींव के लिए गर्भगृह का गहराई में उत्खनन होने पर रामलला के सिंहासन के ठीक नीचे इन्हें रखवाया जाएगा।

12 बजकर 44 मिनट 8 सेकंड पर शुभ मुहूर्त में राम मंदिर की नींव रखी, चांदी की कन्नी से नींव डाली गई। पूजा स्थल पर मुख्यमंत्री योगी, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, संघ प्रमुख मोहन भागवत और नृत्य गोपाल दास मौजूद रहे। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या पहुंचकर पहले हनुमानगढ़ी मंदिर में की और आरती उतारी। मंदिर के मुख्य पुजारी पूजा जीपी महाराज ने उन्हें चांदी की मुकुट और वस्त्र भेंट किए।

उसके बाद उन्होंने रामलला के दर्शन किए। इससे पहले सीएम योगी और राज्यपाल ने पीएम मोदी का स्वागत किया। पीएम मोदी राम जन्मभूमि मंदिर के शिलान्यास के लिए बुधवार को अयोध्या पहुंचे उन्होंने पहले हनुमानगढ़ी पहुंचकर हनुमान जी की पूजा-अर्चना की और फिर राम जन्मभूमि क्षेत्र पहुंचकर भगवान राम को दंडवत प्रणाम किया उनके साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी थे। पारंपरिक धोती कुर्ता पहने मोदी को हनुमानगढ़ी मंदिर के मुख्य पुजारी ने एक पटका भेंट किया। मंदिर में कुछ देर पूजा-अर्चना करने के बाद मोदी राम जन्मभूमि क्षेत्र के लिए रवाना हो गए।

राम जन्मभूमि पहुंचकर प्रधानमंत्री ने भगवान राम को दंडवत प्रणाम किया और वहां पारिजात का पौधा लगाया। इसी के साथ वे रामलला के दर्शन करने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं। प्रधानमंत्री मोदी आमतौर पर कुर्ता-पायजामा पहनते हैं, लेकिन भूमिपूजन में शामिल होने के लिए उन्होंने पारंपरिक परिधान कुर्ता और धोती पहनी। प्रधानमंत्री ने अयोध्या में मंदिर परिसर में पारिजात का पौधा भी लगाया।

राम जन्मभूमि की आधारशिला रखने के बाद पीएम मोदी ने किया संबोधित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित करते हुए कहा कि सभी पहले मेरे साथ प्रभु राम जी को और मां जानकी को याद कर लें। उन्होंने सियावर रामचंद्र के नारे के साथ अपने संबोधन की शुरूआत की। उन्होंने कहा यह जयघोष सिर्फ यहां नहीं, बल्कि पूरे विश्व में फैले करोड़ों भारतीय सुनाई दे रहा है। राम भक्तों को कोटी कोटी बधाई।

यह मेरा सौभाग्य कि ट्रस्ट ने मुझे इस पल का साक्षी बनाया और इसके लिए मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। पीएम मोदी ने कहा कि देश आज स्वर्णिम इतिहास रच रहा है। आज पूरा भारत राममय है। पूरा देश रोमांचित है, हर मन दीपमय है। आज पूरा भारत भावुक है। सदियों का इंतजार आज समाप्त हो रहा है।

करोड़ों लोगों को आज विश्वास नहीं हो रहा होगा कि वो अपने जीते जी ये सब देख रहे हैं। वर्षों तक टाट में रहे हमारे रामलला के लिए अब एक भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा। इस अवसर पर एक डाक टिकट जारी किया गया है। इसकी कीमत पांच रुपये है और पांच लाख डाक टिकट छपेंगे। पीएम मोदी ने इसे जारी किया इस पर राम मंदिर की तस्वीर है।

पांच शताब्दियों के बाद राम मंदिर का सपना हुआ पूरा : सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संबोधित करते हुए कहा कि पांच शताब्दियों बाद राम मंदिर का सपना पूरा हुआ है। जिस अवधपुरी का यह अहसास करने के लिए पांच शताब्दियां लग गई। 135 करोड़ भारतवासियों को और पूरे विश्व के लोगों व नागरिकों की भावनाओं का मूर्तरूप देने का अवसर जिस महानुभाव के कारण प्राप्त हुआ वह है भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, हमारे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संचालक मोहन भागवत और पूज्य महंत नृत्य गोपाल दास महाराज। देश के समस्त संत और इस कार्यक्रम के उपस्थिल अतिथिगण की प्रणाम और उनका स्वागत करता हूं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आदरणीय प्रधानमंत्री ने बताया कि किस प्रकार से सभी को साथ लेकर समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। अनेक पीढियां चली गई इस क्षण के इंतजार में। बहुत लंबा संघर्ष चलता रहा और आज पीएम मोदी की कोशिश के कारण यह संभव हुआ। से में हृदय उनका स्वागत करता हूँ।

सब राम के हैं और सब में राम हैं : मोहन भागवत

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि कई लोग महामारी के कारण नहीं आ पाए, लालकृष्ण आडवाणी जी भी नहीं आ पाए हैं। देश में अब आत्मनिर्भर बनाने की ओर काम जारी है, आज महामारी के बाद पूरा विश्व के रास्तों को ढूंढ रहा है। जैसे-जैसे मंदिर बनेगा, राम की अयोध्या भी बननी चाहिए।

हमारे मन में जो मंदिर बनना चाहिए और कपट को छोड़ना चाहिए। संघ प्रमुख ने कहा कि पुरुषार्थ का भाव हमारे रग-रग में है। भगवान राम का उदाहरण है। सब राम के हैं और सब में राम हैं। यह सभी भारतवासियों के लिए है, कोई अपवाद नहीं।

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि कई लोग महामारी के कारण नहीं आ पाए, लालकृष्ण आडवाणी जी भी नहीं आ पाए हैं। देश में अब आत्मनिर्भर बनाने की ओर काम जारी है, आज महामारी के बाद पूरा विश्व नए रास्तों को ढूंढ रहा है जैसे-जैसे मंदिर बनेगा, राम की अयोध्या भी बननी चाहिए। हमारे मन में जो मंदिर बनना चाहिए और कपट को छोड़ना चाहिए। संघ प्रमुख ने कहा कि पुरुषार्थ का भाव हमारे रग-रग में है।