वाराणसी : 28 साल बाद मिला इंसाफ, नाबालिग से रेप करने वालो को मिली सजा

वाराणसी : रोहनिया थाना कसजेटर के कोटवां गांव में 23 सितंबर 1991 को एक 9 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म हुआ था। जिसमे लड़की के बलात्कार के आरोप में दो अभियुक्तों को सजा मिली है। 28 साल पहले हुई इस घटना में अब जाकर इंसाफ हुआ है। जिसमे फास्टट्रैक कोर्ट के जज सर्वेश कुमार पांडेय ने मंगलवार को दो अभियुक्तों कल्लू और रहमान को दोषी करार करते हुए 10-10 साल की कठोर कारावास के साथ 50-50 हजार रुपये जुर्माने की सजा भी सुनाई है। वही यदि दोनों अभियुक्त यदि जुर्माना नही देते है तो उन्हें एक-एक वर्ष का अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। कोर्ट में अभियोजन पक्ष की पैरवी एडीजीसी प्रेमथेश पाण्डेय ने किया।

क्या था मामला

अभियोजन पक्ष के अनुसार 23 सितंबर 1991 को रोहनिया थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोटवां ग्राम में शाम के समय 9 वर्ष की लड़की अपनी ही उम्र की लड़कियों संग हाते में खेल रही थी। उस दौरान गांव में रहने वाले दो अभियुक्त रहमान और कल्लू वहां पर आए और सभी खेल रही लड़कियों को हाते से बाहर निकाल दिया। दोनों अभियुक्तों ने पीड़िता को मिठाई का लालच देकर कहा कि गोद मे लिए लड़की को उसके मा को देकर हाते में आने को कहा है। जब मासूम लड़की हाते में पहुचीं तो दोनों ने उसके साथ दुष्कर्म करने लगे। वही लड़की के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनकर गांव के आस-पास लोग और परिजन उस जगह पर पहुच गए जहां दोनों अभियुक्त वहां से फरार हो गए। पीड़ित लड़की ने दोनों अभियुक्तों द्वारा दुष्कर्म करने की घटना की जानकारी दिया।

इस घटना के दूसरे ही दिन पीड़िता लड़की के परिजनों ने एक अभियुक्त कल्लू को पकड़ कर पुलिस को सौप दिया। जबकि दूसरा अभियुक्त रहमान ने दो दिन बाद 26 सितंबर को कोर्ट में अपने आपको समर्पण कर दिया। इस दौरान कोर्ट ने पीड़िता लड़की सहित पांच गवाहों के बयानों को दर्ज किया। बाद में इसकी सुनवाई हाईकोर्ट में विचाराधीन रही।

हाईकोर्ट के निस्तारण के बाद स्थानीय कोर्ट ने बयान और पत्रावली के उपलब्ध साक्ष्यो के आधार पर दोनों अभियुक्तों को दोषी करार करते हुए दोनों अभियुक्तों 10-10 वर्ष की कठोर कारावास के साथ 50-50 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *