वाराणसी : 230 परियोजनाओं से हो रहा गंगा की अविरल-निर्मल धारा का सरक्षण

वाराणसी : बड़े लक्ष्य की ओर अग्रसर हो रहा है ” नमामि गंगे ” करीब 22,273 करोड़ की लागत से 230 परियोजनाओं से हो रहा गंगा की अविरल – निर्मल धारा का संरक्षण

गंगा को स्वच्छ रखने के इतिहास में सबसे बड़े प्रावधान “नमामि गंगे” कार्यक्रम के माध्यम से गंगा पुनरूद्धार मंत्रालय अविरल-निर्मल धारा के क्रियान्वयन की ओर अग्रसर है।

7 प्रमुख क्षेत्र (अविरल धारा, निर्मल धारा विकास, नदी के तट का विकास, क्षमता निर्माण, अनुसंधान एवं निगरानी, जलीय जीव – जंतुओं का संरक्षण, जागरूकता अभियान) तथा 21 कार्य बिंदु के तहत मिशन “नमामि गंगे” गंगा के संरक्षण के अपने लक्ष्य को साध रहा है।

नमामि गंगे परियोजना के सम्पूर्ण कार्यक्रम को दर्शाती पत्रिका बुधवार को विकास भवन में वाराणसी के जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह को संयोजक राजेश शुक्ला के नेतृत्व में प्रदान की गयी। प्रदूषण नियंत्रक परियोजनाएं (सीवेज अवसंरचना, औधोगिक प्रदूषण नियंत्रण) 20282.59 करोड़, नदी के तट, घाट और मुक्तिधाम परियोजनाएं 1242.45 करोड़, वनीकरण एवं जैव विविधता संरक्षण 268.76 करोड़ एवं अन्य परियोजना 479.26 करोड़ की स्वीकृत लागत के माध्यम से नमामि गंगे का लक्ष्य पूरा किया जा रहा है। ताकि गंगा सदैव सतत प्रवाहित रहें।

गंगा नदी के पुनरूद्धार की संकल्पना में, नदी की सम्पूर्णता यथा अविरल धारा, निर्मल धारा, भूगर्भीय तथा पारिस्थितिकीय अखंडता का संरक्षण नमामि गंगे का प्रमुख उद्देश्य है।

इस अवसर पर आयोजन में प्रमुख रूप से संयोजक राजेश शुक्ला, महानगर संयोजक शिवदत्त द्विवेदी , सहसंयोजक शिवम अग्रहरि, सहसंयोजक अमन गुप्ता, सीमा चौधरी, सोनी जायसवाल, अनुराग सारस्वत आदि लोग शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *