December 5, 2020

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

वाराणसी : मलबे में फेंके मिली सैकड़ों शिवलिंग, लोगो ने किया शिकायत

वाराणासी : काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर निर्माण कार्य को लेकर के चल रहे मकानों के ध्वस्तीकरण के दौरान सैकड़ों शिवलिंग लंका थाना क्षेते के रोहितनगर एक प्लाट में मलबे में पड़ा पाया गया जिससे स्थानीय लोगो में काफी गुस्सा दिखा इसे देख थाने में शिकायत किया। वहीं सुबह जब कुछ लोगों ने शिवलिंग को ऐसे मलबे में पड़ा देखा तो वो उनको उठाकर अपने घर लेकर चले गए।

इसकी जानकारी जब पुलिस को हुई तो पुलिस कार्यवाही करते हुए पुलिस ने दो मजदूर को गिरफ्तार किया। इन दिनों काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर को लेकर के मंदिर के आस-पास के मकानों ध्वस्तीकरण किया जा रहा है। इसी दौरान काफी बड़ी संख्या में शिवलिंग मिले हैं। इन्ही तोड़े गए मकानों से निकले मलबे को शहर के निचले हिस्से में फेका जा रहा है।

इस दौरान मंगलवार की रात में शेर के निचले हिस्से में मलबे को डाला गया। जहाँ मलबे में ही शिवलिंग को भी डाल दिया गया। जब सुबह आने जाने वाले राहगीरों की नजर शिवलिंग पर गई तो वो इस को लेकर लोग काफी क्रोधित हुए। इसकी सूचना पुलिस को दी गयी। जिसके बाद पुलिस ने दो मजदूर को गिरफ्तार कर लिया है ऐसे प्लाट फेके शिव लिंग को देखकर कई लोगों ने शिवलिंग को अपने साथ घर लेकर चले गए। स्थानीय पार्षद इंद्र बहादुर पटेल ने इस मामले को लेकर अनभिज्ञता जताया। मौके पर पहुचे सपा पार्षद कमल पटेल ने इस मामले में कड़ा विरोध किया। मामले की जाँच को लेकर जिला प्रशासन से मांग की है। एक ओर जहाँ मन्दिर को लेकर कॉरिडोर बनाया जा रहा तो एक तफर भगावन शिव जी के शिवलिंग का अपमान किया जा रहा है।

सबसे मजेदार बात यह रही कि लंका इंस्पेक्टर व सीओ भेलूपुर दो घण्टे बाद मौके का निरीक्षण करने के लिए पहुचे। क्षेत्र के पार्षद इंद्र बहादुर पटेल ने शिवलिंग मिलने के बारे में पूछे जाने पर जानकारी ना होने से इनकार किया। संकट मोचन चौकी प्रभारी ने बताया कि एक दर्जन से ज्यादा शिवलिंग को कब्जे में लेकर सुरक्षित रखा गया है।

वही इसकी सूचना की जानकारी श्री विद्यामठ के स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद और कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय रॉय भी अपने समर्थकों के साथ लंका थाने पहुचे। शिवलिंग की सूचना मिलने की जानकारी मिलते ही एसपी सिटी, चेतगंज सीओ, और दशाश्वमेध सीओ भारी पुलिस फोर्स के साथ लंका थाने पहुचे। इसकी जानकारी पाकर तहसीलदार अविनाश कुमार भी लंका थाने पहुचकर शिवलिंग की निरीक्षण किया। वही उन्होंने कहा कि ये शिवलिंग कहा से लाया गया। और इस स्थान पर डाला गए है। इसकी जानकारी स्पष्ठ नही हो पाया है।क्योंकि ये सभी शिवलिंग चुनार के पत्थरों से नवनिर्मित है। और ये शिवलिंग विश्वनाथ कॉरिडोर के नही यही।

मलबे में पाया गया जो भी इट मिली है ज्यादार नई इट पाई गई है। जबकि विश्वनाथ कॉरिडोर में पुराने जमाने की ईंट पाई जा रही है। वही हमारे यहां के विश्वनाथ कॉरिडोर के सारा मलबा रामनगर के क्षेत्र राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप फेका जा रहा है।

इस मामले पर स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने लंका थाने में लिखित तहरीर भी दी। वही इस पर सीओ चेतगंज अंकिता सिंह ने जानकारी दिया है कि स्वामी अभिमुक्तेश्वरानंद ने लंका थाने में तहरीर दिया है। वही स्वामी जी ने जो आरोप लगाए है उसकी जाँच की जा रही है। वही इसकी जाँच के बाद ही इस पर कार्यवाही की जाएगी।

You may have missed