वाराणसी : बीएचयू स्थापना दिवस पर विश्वविद्यालय के विभिन्न संकायों के छात्रों ने निकाली झाँकियां

वाराणसी : बीएचयू के स्थापना पर बसंत पंचमी के पर काशी हिंदू विश्वविद्यालय के विभिन्न संकायों द्वारा रविवार को झाँकियां निकाली गई। इस दौरान इन झाँकियों को देखने के लिए भारी भीड़ जमा हो गई। इस दौरान छात्र व छात्रओं ने नुक्कड़-नाटक,डांस, संगीत के माध्यम से महामना मदन मोहन मालवीय के सपनो का भारत को भी दिखाया। जिसमे कुल 15 झाँकियां निकाली गई।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के स्थापना दिवस पर विभिन्न संकायों की का अलग-अलग झाँकियां निकाली गई जिसमें इस बार झाँकियों का मूल विषय था। जिसमे हर झाँकियों का विषय था मुख्य रूप से शिक्षा को हर क्षेत्र में बढ़ावा देना। इस बार छात्र व छात्राओं ने झाँकियों के विषय को नुक्कड़-नाटक के द्वारा महामना के सपनो के भारत को दिखाया।

भारत माता की जय, हर-हर महादेव से गुजा बीएचयू

बीएचयू के स्थापना दिवस पर विभिन्न संकायों द्वारा निकाली गई झाँकियों से छात्रों ने झाँकियों के साथ-साथ जय हिंद, भारत माता की जय, हर-हर महादेव के नारों से महामना की बगिया को उद्घोष किया।

बसंत पंचमी पर ही हुई बीएचयू की स्थापना

महामना मदन मोहन मालवीय ने सन 1916 में बसंत पंचमी के ही दिन बीएचयू की स्थापना कईया था। जो 3900 एकड़ में फैला हुआ है। जो एशिया के सबसे बड़े आवासीय विश्वविद्यालय है। जो आज आईआईटी, कृषि विज्ञान, मेडिकल, पर्यावरण, प्रबंधन सहित 6 संस्थान है। वगी बीएचयू के मुख्य और दक्षिणी भाग में 16 संकाय, 135 विभाग, दो अन्तर्विषयी विद्यालय, एक महिला महाविद्यालय महामना के सपनो को साकार कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *