March 3, 2021

Uttar Pradesh Samachar

Hindi News, Today Hindi News, Uttar Pradesh News

जौनपुर : पानी बर्बाद होने की बड़ी-बड़ी समस्या का कारण बना रोजाना सड़कों पर बहता पेयजल

जौनपुर : जनपद के सिंगरामऊ क्षेत्र में पानी बर्बाद होने की बड़ी समस्या के पीछे वजह पानी की कमी नहीं जबकि रोजाना पानी की बर्बादी होना कारण है।सिंगरामऊ थाना क्षेत्र के हरिहरपुर जल निगम टंकी द्वारा बिछाई गई पानी की पाइप राष्ट्रीय राजमार्ग 56 पर जगह-जगह रोड के अंदर फट चुके है जिसके कारण हजारों लीटर पानी कई दिनों से काफी पानी बह कर बर्बाद होता चला जा रहा है। स्थिति यह हो गयी है कि पानी रोड पर लगते-लगते कई स्थानों पर बड़े-बड़े गड्ढे बन गए हैं, आने जाने वाले राहगीरों के साथ-साथ स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। वही सिंगरामऊ में पानी की किल्लत का एक बड़ा वजह बन चुके हैं क्षतिग्रस्त पाइपे। वही पेयजल की बर्बादी होना सबसे बड़ी ही समस्या का कारण बन गया है। क्योंकि जल ही जीवन है अगर इस पानी की बर्बादी को रोकने के लिए ठोस कदम जिम्मेदारों द्वारा नहीं उठाए गए तो स्थिति बद से बदतर होती चली जाएगी। फिलहाल जिम्मेदार इस पर लाचार से दिख रहे है। अगर ठोस कदम उठाएं जाएं तो सिंगरामऊ वासियों को पर्याप्त जलापूर्ति हो सकती है। काफी हद तक बर्बाद होने वाले पानी जरूरतमंदों तक पहुंच सकते हैं। सिंगरामऊ में पेयजल संकट लगातार बढ़ता जा रहा है। हलाकि उनके पास जिनके पास सब जैसी शुभिधाए न हो। गर्मियों के दिनों में भूजल स्तर गिरने की वजह से नलकूप तक सूखते जाते हैं। काफी लोगों को दूर-दूर से पानी लाना पड़ता है उनके लिए तो जल निगम से पूर्ति होने वाली जल ही एक सहारा है।

कई वर्ष बीत गए फिर भी नहीं बदली गई पेयजल लाइनों की पाइप

स्थानीय लोगों की माने तो क्षेत्र में बिछाए गए पाइपों के जाल को काफी साल बीत गया है। किंतु आज तक पेयजल लाइनों का पुनर्गठन नहीं किया गया। जिसकी वजह से अधिकांश लाइनों का पानी लीकेज से जमीन के भीतर रिसता रहता है। और ऊपर सड़क पर फ़ैल जाता है। कुछ का कहना है सड़कों के लगातार निर्माण से अधिकांश लाइनें काफी गहराई में पहुंच गई हैं। और क्षतिग्रस्त हो जाने की वजह से पानी निकलता रहता है।

कई दिनों से क्षतिग्रस्त हैं पेयजल पाईप लाइन नहीं दे रहा कोई ध्यान

स्थानीय निवासी के मुताबिक पेयजल लाइनों के जाल काफी दिनों से टूटे हुए हैं। हम लोग जलसंस्थान को सूचित कर देते हैं, लेकिन अभी तक इसका कोई निर्णय नहीं लिया गया ऐसे में पानी बर्बाद होता रहता है। जलसंस्थान कर्मचारियों निरीक्षण करने भी नहीं आते है।

पानी लगने से सड़के हुई खराब

सड़कों के ऊपर लगे पानी की वजह से गड्ढे हुए निर्मित जलनिगम द्वारा बिछी पाइपें कई जगह से राष्ट्रीय राजमार्ग 56 सिंगरामऊ में रोड किनारे पाइप सड़क के अंदर फट गई है जिससे उनसे निकलने वाला पानी सड़कों पर बहने लगता है आलम यह है पानी लगते लगते सड़क पर गड्ढेेे निर्मित हो गए हैं जििसमे जो की जलजमाव का बड़ा कारण बन चुका है हालांकि धूप होते ही जल काफी हद तक सूख जाता है लेकिन गीलापन होने से लगातार चल रही बड़ी गाड़ियां से रोड क्षतिग्रस्त हो चुका है जो कि गड्ढों में तब्दील हो गया। बता दें कि भारत में सड़कों को लेकर काफी चर्चाएं गर्म रहती हैं, चाहे वह गांव के पंचायत हो या देश की संसद। जमीनी स्तर पर देखा जाए तो यहां गड्ढों में सड़क है या सड़कों पर गड्ढे कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन इसका खामियाजा आम जनता को चोटिल होकर , जान देकर चुकाना पड़ता है।

You may have missed